“जाके पाँव न फटी बिवाई, वो क्या जाने पीर पराई” पर 700 से 800 शब्दों में निबंध लिखें ?

“जाके पाँव न फटी बिवाई, वो क्या जाने पीर पराई” यह कहावत भारतीय जनजीवन में अत्यधिक प्रसिद्ध है। इस कहावत का अर्थ है कि जिसने स्वयं कष्ट नहीं भोगा है, वह दूसरों के कष्ट को नहीं समझ सकता। यह कहावत Read More …

नालंदा प्राचीन और प्रारंभिक मध्यकालीन भारत का एक मठ-सह-शैक्षणिक प्रतिष्ठान मात्र नहीं था। चर्चा करें।

नालंदा

नालंदा विश्वविद्यालय प्राचीन और प्रारंभिक मध्यकालीन भारत का एक प्रमुख मठ-सह-शैक्षणिक प्रतिष्ठान था, लेकिन इसका महत्व केवल इसके शैक्षणिक योगदान तक सीमित नहीं था। नालंदा के बहुआयामी महत्व को निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से विस्तारित किया जा सकता है: 1. Read More …

1857 के विद्रोह ने अंग्रेजों को भारतीय प्रशासन को पूरी तरह से बदलने पर मजबूर कर दिया। ब्रिटिश भारत में 1857 के विद्रोह से पहले और बाद के प्रशासन का तुलनात्मक विश्लेषण करें।

1857 के विद्रोह

1857 के विद्रोह ने ब्रिटिश प्रशासन को भारतीय प्रशासन प्रणाली में महत्वपूर्ण परिवर्तन करने पर मजबूर कर दिया। इस विद्रोह से पहले और बाद के प्रशासन का तुलनात्मक विश्लेषण निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से किया जा सकता है: 1. प्रशासनिक Read More …

‘घर का जोगी जोगना, आन गाँव का सिद्ध’ पर 700 से 800 शब्दों में निबंध लिखें ?

परिचय ‘घर का जोगी जोगना, आन गाँव का सिद्ध’ यह प्रसिद्ध हिंदी कहावत भारतीय समाज में अक्सर सुनने को मिलती है। इस कहावत का मूल अर्थ है कि अपने घर में या अपने समाज में व्यक्ति की उतनी कद्र नहीं Read More …

योग दिवस 21 जून – स्वयं और समाज के लिए योग

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस हर साल 21 जून को मनाया जाता है। यह दिवस योग के शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक लाभों के बारे में जागरूकता फैलाने और इसके अभ्यास को प्रोत्साहित करने के लिए समर्पित है। इस दिन का आयोजन 2015 Read More …

बिहार जैसे राज्यों में बाढ़ की घटनाएं बढ़ रही हैं। इस संदर्भ में, इसके कारणों और उन्हें कम करने के उपायों पर चर्चा करें।

bihar flood

बिहार में बाढ़ की घटनाएं बढ़ रही हैं और यह एक गंभीर समस्या बन गई है। इसके प्रमुख कारण और समाधान निम्नलिखित हैं: बाढ़ के प्रमुख कारण: भौगोलिक स्थिति: बिहार का अधिकांश क्षेत्र निचले गंगा के मैदानों में स्थित है, Read More …

रोबोटिक्स, एक बहुविषयक प्रौद्योगिकी के रूप में, भारत में विभिन्न क्षेत्रों और उद्योगों में संभावित रूप से किस प्रकार क्रांति ला सकता है? इसके अतिरिक्त, भारतीय रोबोटिक्स पारिस्थितिकी तंत्र के भीतर चुनौतियों पर प्रकाश डालें जिन पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है।

रोबोटिक्स

रोबोटिक्स, एक बहुविषयक प्रौद्योगिकी के रूप में, भारत में विभिन्न क्षेत्रों और उद्योगों में व्यापक और गहन परिवर्तन ला सकता है। इसकी संभावनाएं और इसके साथ जुड़ी चुनौतियाँ निम्नलिखित हैं: संभावित क्रांति के क्षेत्र: उद्योग और विनिर्माण: स्वचालन (Automation): उत्पादन Read More …

‘आदित्य एल 1 मिशन’ क्या है? ‘लैग्रेंज पॉइंट्स’ से आप क्या समझते हैं और लैग्रेंज की स्थिति निर्धारित करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले सिद्धांत का वर्णन करें?

आदित्य एल1 मिशन भारत का पहला अंतरिक्ष-आधारित वेधशाला वर्ग का मिशन है, जिसे सूर्य का अध्ययन करने के लिए समर्पित किया गया है। यह मिशन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) द्वारा विकसित किया गया है। इसका मुख्य उद्देश्य सौर वायुमंडल के Read More …

‘नेतह त भाई बेटा न केतनो जोर’ पर 700 से 800 शब्दों में निबंध लिखें

कहावत का अर्थ “नेतह त भाई बेटा न केतनो जोर” का शाब्दिक अर्थ है कि अगर कुछ पूर्वनिर्धारित है, तो चाहे कितना भी जोर लगा लो, उसे बदलना मुश्किल होता है। यह कहावत हमें यह बताती है कि जीवन में Read More …

पृथ्वी के ऊष्मा बजट से आप क्या समझते हैं? चर्चा करें कि मानवीय गतिविधियाँ पृथ्वी के ऊष्मा बजट पर किस प्रकार प्रभाव डाल रही हैं?

पृथ्वी का ऊष्मा बजट, जिसे “Earth’s Energy Budget” भी कहा जाता है, पृथ्वी के ऊर्जा प्रवाहों का संतुलन है। यह संतुलन मुख्य रूप से सूर्य से प्राप्त ऊर्जा, पृथ्वी द्वारा अंतरिक्ष में विकिरणित ऊर्जा, और वायुमंडल व सतह के बीच Read More …

एल-नीनो दक्षिणी दोलन (ENSO) की घटना की व्याख्या करें तथा भारतीय मानसून और कृषि पर इसके प्रभाव पर प्रकाश डालें।

एल-नीनो दक्षिणी दोलन (ENSO) एक जलवायु प्रणाली है जो प्रशांत महासागर के भूमध्य रेखीय क्षेत्रों में समुद्र की सतह के तापमान और वायुमंडलीय स्थितियों में परिवर्तन के कारण होती है। यह घटना दो प्रमुख चरणों में होती है: एल-नीनो और Read More …

चुनौतियों के बीच चुनाव एक मिसाल

विभूती नारायण राय, (पूर्व आईपीएस अधिकारी) अपनी भौगोलिक, भाषिक और सांस्कृतिक विविधताओं के चलते भारतीय चुनाव दुनिया भर के पर्यवेक्षकों के लिए हमेशा उत्सुकता के विषय रहे हैं। ब्रिटिश राजनेता चर्चिल शांतिपूर्ण तरीकों से अपनी सरकारें चुनने को लेकर भारतीय Read More …